Turkey History in Hindi | तुर्की का रोचक इतिहास

 Turkey History in Hindi | तुर्की की हिस्ट्री


Turkey History in Hindi
Turkey


आज की पोस्ट में आप लोगों को Turkey History in Hindi बताऊंगा जो एक मुस्लिम देश है लेकिन वो बाकी मुस्लिम देशों से बिलकुल अलग है|


इस पोस्ट में आपको जानने मिलेगा की ऐसा क्या था History of Turkey  में की यहाँ की औरतों को इतने आजादी क्यों दी जाती है, यहाँ पर इतना डेवलपमेंट कैसे है, यह देश इतनी जल्दी विकसित कैसे हुआ, यहाँ तेल के कुँए या गेस के कुँए नहीं है फिर भी यह इतना अमीर देश क्यों है और अभी भी यह इतनी तेजी से तरक्की कैसे कर रहा है|


यह अनुमान लगाया जा रहा है की 2050 तक इकोनोमिकली, टेकनोलोजीकली में तुर्की सभी  इस्लामिक देशों में सबसे आगे होगा|


तुर्की बाकी सभी मुस्लिम देशों से बिलकुल अलग है क्यूंकि वहां ओरतों को आदमियों की तरह आजादी दी जाती है, मल्टीपार्टी डेमोक्रेसी, इस देश की इकोनोमी भी बहोत मजबूत है| यह सब सिर्फ एक ही आदमी की वजह से मुमकिन हुआ उनका नाम MUSTAFA  KEMAL ATATURK है|


इतिहास में बहोत सारी बड़ी सल्तनतें बनी हैं जैसे की चंगेज खान की सल्तनत, रोमन की सल्तनत और एक ऐसी ही सल्तनत थी जिसका नाम सल्तनत-ए-उस्मानिया था| सल्तनत-ए-उस्मानिया की राजधानी इस्ताम्बुल में हुआ करती थी जो आज तुर्की की राजधानी है|


OTTOMAN EMPIRE(सल्तनत-ए-उस्मानिया) History in Hindi


OTTOMAN EMPIRE (सल्तनत-इ-उस्मानिया) यह इतिहास के सबसे बड़े एम्पायर में से एक था और यह एक मुस्लिम एम्पायर था|


OTTOMAN EMPIRE का इतिहास जानने के बाद यह मालूम पड़ता है की यह एक मुस्लिम एम्पायर था जिसमे 30-35% सिपाही इसाई धर्म के थे|


यह सल्तनत एशिया, अफ्रीका और यूरोप तक फैली हुई थी इसी बात से पता लगाया जा सकता है की यह उस समय कितनी बड़ी सल्तनत थी|


जब सल्तनत-ए-उस्मानिया पूरी तरह से बन चुकी थी जब उसके हिस्से में यह सब देश आते थे| तुर्की, इजिप्त, ग्रीस, बल्गेरिया, रोमानिया, मसेडोनिया, हंगरी, पेलेस्टाइन, जॉर्डन, लेबनान, सीरिया, और कुछ अरब देश और एशिया देश भी थे|


1453 में सल्तनत-ए-उस्मानिया ने Constantinople (कुस्तुन्तुनिया) से बाजन्तीन की सल्तनत को ख़त्म करके कुस्तुन्तुनिया को इस्ताम्बुल नाम दिया और वहां से OTTOMAN EMPIRE की शुरुआत हुई|


1453 से 1600 तक साइंस, डेवलपमेंट और बाकी सभी चीजों में यह सल्तनत दुनिया से बहोत आगे थी और दुनिया के सभी देशों को कंट्रोल करती थी|


1600 के बाद गलत निर्णय, प्रजा पर ध्यान न देना और अय्याशी की वजह से इस सल्तनत के आखरी दिन शुरू हो गए थे|


1600 के बाद गलत निर्णय, प्रजा पर ध्यान न देना, अय्याशी और गद्कीदारों की  वजह से इस सल्तनत के आखरी दिन शुरू हो गए थे|


1914 में जब वर्ल्ड वॉर 1 शुरू हुआ तब तक इस सल्तनत ने अपना बहोत सारा हिस्सा खो दिया था|


वर्ल्ड वॉर 1 में ब्रिटन की वजह से इस सल्तनत को बहोत नुकशान हो चूका था और काफी देश इस सल्तनत के हाथ से निकल चुके थे| इस वॉर में OTTOMON EMPIRE की 10% आबादी ख़त्म हो चुकी थी जिसकी वजह से इस एम्पायर में इतनी ताकत ही नहीं बची थी की यह अपने आप को फिरसे मजबूत कर सके|


Turkey History in Hindi
तुर्की


Turkey history in Hindi-तुर्की का इतिहास 


1922 आते आते यह एम्पायर पूरी तरह से ख़त्म हो गया| यह एम्पायर जब खत्म हुआ तो इसमें से बहोत सारे देश निकले जिसमे तुर्की सबसे मजबूत था और सल्तनत-ए-उस्मानिया को यह देश ही आगे लेके जानेवाला था|


1923 तक सल्तनत-ए-उस्मानिया पूरी तरह से ख़तम हो चुकी थी और उसके बाद REPUBLIC OF TURKEY बना जिसके पहेले प्रेसिडेंट MUSTAFA  KEMAL ATATURK बने|


सल्तनत-ए-उस्मानिया जब ख़तम हुई तब मुस्तफा कमाल अतातुर्क ओटोमन एम्पायर के जनरल थे और फिर बाद में इन्होने ही कदम उठाया की अब हम एक नया देश बनाते हैं और फिर बना REPUBLIC OF TURKEY |


जब तुर्की को नए तौर पर बनाया जा रहा था तब इनपर बहोत बड़ी जिम्मेदारी थी की तुर्की को किस तरह बनाना है इसका संविधान किस तरह का होना चाहिए और तुर्की को यूरोप जैसा बनाना है या एक इस्लामिक देश जैसा बनाना है|


तुर्की आधा यूरोप में है और आधा एशिया में है और यही चीज तुर्की में देखने को मिलती है की यहाँ का रहेन-शहेन यूरोप और मुस्लिम देश का मिक्स है|


मुस्तफा कमाल अतातुर्क तुर्की को एक मॉडर्न इस्लामिक देश बनाना चाहते थे जहाँ औरतें भी पढ़ी लिखी हों इसीलिए उन्होंने 40 हजार स्कूल सिर्फ लड़कियों के लिए अलग से बनवाए थे|


इन्होने धार्मिक स्कूल बंध करवाए, अजान को उर्दू की बजाये तुर्किश भाषा में देने का कानून बनाया, तुर्किश हैट पहेनने पर प्रतिबन्ध लगाया था|


इन्ही सभी निर्णय के कारण ही आज तुर्की बाकी दुसरे मुस्लिम देशों से इतना आगे है और इसका भविष्य भी बहोत उज्जवल है|


Turkey History in Hindi 

Turkey History in Hindi

ग्रीस, बुल्गेरिया, सीरिया, इराक, ईरान, आर्मेनिया और ज्योर्जिया तुर्की के पडोसी देश हैं इन देशों की बॉर्डर तुर्की से जुडी हुई है|

दुनिया के वो 32 देश जिनकी इकॉनमी 2050 में सबसे ज्यादा होगी उन देशों में टर्की का नाम भी है| इस लिस्ट में चीन पहेले नंबर पर, भारत दुसरे नंबर पर और अमेरिका तीसरे नंबर पर है|


अंकारा, अन्तालिया, बुर्सा और इस्ताम्बुल यह तुर्की के बड़े और डेवलप शहर हैं| वेन लेक तुर्की की सबसे बड़ी लेक है|


तुर्की में सबसे विवादित जगह हागिया सोफिया मस्जिद है| हागिया सोफिया पहेले एक चर्च थी लेकिन जब ओटोमन एम्पायर ने बाजनतीन की सल्तनत को ख़त्म किया तो इस चर्च को मस्जिद बना दिया गया और 1931 तक यह मस्जिद ही बनी रही|


Facts about Turkey in Hindi
Turkey History in Hindi
Turkey

1935 से इसे एक म्यूजियम बना दिया गया है लेकिन अभी रेसेप तैयप एरदोगन के नेतृत्व में इसे फिरसे मस्जिद बना दिया गया है|


1928 से टर्की को एक सेक्युलर देश बना दिया गया था|


1938 में अतातुर्क की मृत्यु के बाद इस्मेत इनोऊ रिपब्लिक ऑफ़ तुर्की के दुसरे प्रेसिडेंट बने थे|


1945 में वर्ल्ड वॉर 2 शुरू हुआ था लेकिन वर्ल्ड वॉर 1 में बहोत ही ज्यादा नुकशान होने की वजह से तुर्की ने इसमें हिस्सा नहीं लिया था|


1950 में तुर्की में पहेली बार इलेक्शन हुआ था जिसमे विपक्षी पार्टी की जीत हुई थी|


आज तुर्की में 99% लोग मुस्लिम हैं लेकिन फिर भी यह एक सेक्युलर देश है|


टर्की की अर्थव्यवस्था ज्यादातर टूरिज्म पर टिकी हुई है, यहाँ ओलिव ओयल का उत्पादन ज्यादा होता है|


आपको Turkey History in Hindi कैसी लगी Comment करके जरूर बताएं|



Previous Post
Next Post
Related Posts